Thursday, June 10, 2010

तुम्हारा संदेशा ...

खटखटाया था कल
दरवाजा किसी ने
और टूटी ख़ामोशी
जाने कितने दिन बाद
मेरे घर की
गये हो जब से तुम
सब खामोश हो गया
दिनों बीते आवाज़
अपनी भी सुने
घूम कर हर दिशा से
लौट आती है नज़रे
बस घर के दरवाजे पे
और जोहते है बाट
कान एक दस्तक को
छोड़ चुकी है साथ मेरा
परछाई भी अब
और लगी है
खोजने तुम को
हर सूं अब...
खोला जो दरवाजा
डाकिया आया था
ख़ुशी के एक लहर दौड़ गई
संदेशा वो तुम्हारा लाया था ...

--- अमित १०/०६/२०१०

5 comments:

सुनील दत्त said...

रोचक रचना।

अनामिका की सदाये...... said...

bhavuk man ke ehsas. sunder rachna.

दिलीप said...

waah badhiya sukhad...

Jandunia said...

इस पोस्ट के लिेए साधुवाद

Vaibhav said...

Bahut khub........bhabhi ji will sink in love with you once again........ :-)

Exceelent lines Amit...