Tuesday, June 8, 2010

बाज़ार ...

यहाँ लगा है एक बाज़ार
बोलो क्या खरीदोगे ?
इज्ज़त किसी लड़की की लोंगे
या
दाम किसी खून का दोंगे ?
चोरी , डकैती और गबन
ये सब भी है अपने पास
आप जो करे मांग
"हवाले" के भी है हवाले
हमेशा खुला है हमारा बाज़ार
बे-धडक आये और
पसंद अपनी बताइए
पसंद आप की और
दाम हमारे है
बस दाम चुकाइए और
सामन साथ ले जाइए ...

(अपने देश की क़ानून और न्याय वयवस्था पर )

--- अमित ०७ /०६ /२०१०

4 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत सटीक कटाक्ष.

Suman said...

nice

Vaibhav said...

Too good...

Yatish said...

bahut badiya