Friday, December 30, 2011

नये साल का रेजोलुशन ...

आज सुबह सुबह एक दोस्त का सवाल आया

और अमित नये साल का क्या रेजोलुशन बनाया !

सवाल अच्छा था, हमे पसंद भी आया

हम ठहरे आलसी जीव, हमने न कभी कोई रेजोलुशन बनाया !

हमने सोचा क्यों न इस सवाल पर गौर किया जाये

और हो सके तो इस साल के लिए के रेजोलुशन बनाया जाये !

रेजोलुशन बनाने की चाह में हमने दिमाग पूरा लगया

और देखिये कैसे कैसे ख्यालो को अपने इर्द गिर्द पाया !

सिगरेट को तो हम कभी पसंद ना आये

फिर छोड़ उसे कैसे दे, जिसे थे ना कभी पाये !

शराब हमसे कभी हज़म ही ना हो पाई

उसकी यही अदा, कभी हमको पसंद ना आई !

पान, गुटखा और सुपारी तो हम वैसे ही नहीं खाते

बुढापे की उम्र है, दांतों से कहाँ ये अब हमारे चब पाते !

फिर सोचा चलो करते है पूरी मैनेजमेंट की पढाई

याद कर फिर सहमे, इंजीनियरिंग में थी जैसे तैसे जान बचाई !

फिर सोचा चलो कोई सर्टिफिकेट ही पास कर आयेंगे

पर प्रोजेक्ट का है बजट कम, रिअम्बेर्स उसको कैसे कर आयेंगे !

चलो और कुछ नहीं, हर महीने कुछ पैसे ही बचायेंगे

पर बाबू अपनी सेलेरी से हम बीस तारीख से आगे कहाँ जायेंगे !

नर्वस नाइनटी में है हम, चलो थोडा वजन घटाएंगे

अरे सचिन ने मारी सौ सेंचुरी, एक तो साहब हम भी लगायेंगे !

प्रण करते है ना करेंगे ऐसा काम, जिससे श्रीमतिजी से डांट खायंगे

लगता यह दिवा-स्वप्न है, हकीक़त शायद इसको ना कर पायेंगे !

अब तक दिया काम को, अब परिवार के साथ समय ज्यादा बितायेंगे

कुछ भी हो भैय्या, यह रेजोलुशन तो इस साल ज़रूर हम निभायेंगे !!!

2 comments:

sakhi with feelings said...

नए साल कि हार्दिक शुभकामनाये ..और आपका रेजोल्यूशन पूरा हो ये प्रर्थना करुँगी

Hindi Sahitya said...

आप सभी का हिन्दी साहित्य संकलन की ओर से स्वागत है ।

आप अपनी या किसी अन्य की कवितायें यहां निःशुल्क प्रकशित कर सकतें है । कॄपया वेबसाईट http://www.hindisahitya.org पर क्लिक करे और विस्तृत जानकारी प्राप्त करे ।



हिन्दी सेवा में समर्पित

http://www.hindisahitya.org